61 बच्चे और मरे गोरखपुर में, क्या जान बचाने का कोई विकल्प नहीं?

Parixit Gangrade

Featured News

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के गृह जिले गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज के अस्पताल में बच्चों की मौत का सिलसिला अब भी जारी है, यहां बालरोग रोग विभाग में पिछले 3 दिनों में 61 बच्चों ने दम तोड़ दिया, जिनमें से 42 बच्चों की मौत पिछले 2 दिनों में हुई है। पूर्व में हुई मासूम मौतों की घटना और अभी जारी मासूम मौतों का सिलसिला यह दर्शाता रहा है जैसे कि काल के ग्रास में समाते जा रहे बच्चों को बचाने का कोई विकल्प ही ना हो।

प्रशासन ने इंसेफलाइटिस, न्यूमोनिया, सेप्सिस होने की बात कही

अस्पताल अधिकारियों के मुताबिक 27, 28 और 29 अगस्त को अस्पताल में 61 बच्चों की मौत हुई है। जिनमें से इंसेफलाइटिस वार्ड में 11 बच्चों, नवजात शिशु गहन चिकित्सा कक्ष (NICU) में 25, वहीं शिशु चिकित्सा वार्ड में 25 बच्चों की मौत हुई। चिकित्सा अधिकारियों के मुताबिक, ये बच्चे इंसेफलाइटिस के अलावा नवजात बच्चों को होने वाली न्यूमोनिया, सेप्सिस जैसी बीमारियों से पीड़ित थे।

इंसेफलाइटिस का प्रकोप और अधिक बढ़ने की आशंका

उन्होंने बताया कि आसपास के इलाके के लोग अपने बच्चों को अति गंभीर होने पर इलाज के लिए इसी अस्पताल लेकर आते हैं, इस वजह से अस्पताल पर भी काफी दबाव रहता है। वहीं स्थानीय डॉक्टरों के मुताबिक, गोरखपुर और इसके आसपास के इलाकों में भारी बारिश और बाढ़ को देखते हुए आने वाले दिनों में इंसेफलाइटिस का प्रकोप और अधिक बढ़ने की आशंका है।