आख़िर बुजुर्गो का सपना क्यों पूरा करता हैं? ये बिजनेसमैन

Rahul Morya

Featured News

सामाजिक कार्यों के चलते दुनिया भर में चर्चित भारवंशी बिजनेसमैन रिजवान आडतिया इन दिनों सिंगापुर में हैं। आपको बता दें, रिजवान हर साल सितम्बर में वृद्धाश्रम के करीब 50 बुजुर्गो के साथ एक फॉरेन ट्रिप का प्लान करते हैं जिसमे उनके साथ उनकी फैमिली भी होती हैं। सीनियर सिटीजन को विदेश यात्रा पर लेजाना रिजवान अपना मूल कर्तव्य मानतें हैं।

पोरबंदर के रहने वाले रिजवान करीब दस साल पहले साउथ अफ्रीका आए। जहाँ उन्होंने अपना बिजनेस स्टार्ट किया। रिजवान के तीन भाई हैं, जो अलग-अलग देशों में अपने बिजनेस के साथ वहीँ बस चुके हैं। रिजवान शुरू से ही अपने माता-पिता के साथ रहना चाहते थे लेकिन बिजनेस के सेटअप और पैसों की तंगी को लेकर वें अपने माता-पिता को अपने साथ विदेश नहीं ले जा सके और ना ही बीमारी के वक़्त उनकी सेवा कर सके। दो साल तक अपनी बीमारी से लड़ने के बाद रिजवान के माता-पिता का निधन हो गया। जिस बात का उन्हें आज भी दुःख होता हैं। सितम्बर माह में उनकी माँ का निधन हुआ था इसलिए उन्होंने फैसला किया कि, वें हमेशा इसी माह में बुजुर्गो को विदेश यात्रा के लिए लेकर जाएँगे।

आपको बता दें, रिजवान की एक संस्था हैं जो सामाजिक कार्यों से जुडी हुई हैं, जिसका नाम ‘रिजवान आडतिया फाउंडेशन’ हैं। यह संस्था हर साल वृद्धाश्रम के बुजुर्गो का विदेश यात्रा के लिए चयन करती हैं। जिसमे यात्रा का सारा खर्च रिजवान की संस्था ही उठाती हैं।

रिजवान बताते हैं कि, गांधी की नगरी पोरबंदर में सभी व्यक्ति सामाजिक कार्यों को लेकर हमेशा उत्तेजित रहते हैं। जिससे रिजवान को अपनी संस्था को बढावा देने के लिए कई स्त्रोत मिले। दूसरों की ख़ुशी में ख़ुश रहते हुए रिजवान अपनी संस्था को एक अलग ही ऊँचाई पर ले गए। उन्होंने कई सामाजिक कार्य करे जैसे-

1) बच्चो की पढाई को लेकर काम किया।

2) कच्छ में भूकंप के दौरान पीडितो की मदद करना।

3) हर लड़की की शिक्षा पूरी हो सके इसके लिए काम किया।

4) कई मेडिकल कैंप का आयोजन भी किया।