Friday, October 20th, 2017 15:54:16
Flash

सारागढ़ी युद्ध : जब 21 सैनिकों ने चटा दी थी 12 हजार अफगानी सैनिकों को धूल!




सारागढ़ी युद्ध : जब 21 सैनिकों ने चटा दी थी 12 हजार अफगानी सैनिकों को धूल!Social

Sponsored




हाल ही में अक्षय कुमार ने अपनी आगामी फिल्म ‘केसरी’ अनाउंस की। ये फिल्म बेस्ड है सारागढ़ी के युद्ध पर। इस फिल्म के प्रोड्यूसर करण जौहर। फिल्म का नाम सुनकर ही लग रहा है कि ये युद्ध पर बेस्ड है। इस फिल्म में अक्षय कुमार की भूमिका क्या होगी, इस बात को अभी रिवील नहीं किया गया है लेकिन हम आपको सारागढ़ी युद्ध यानि फिल्म ‘केसरी’ की कहानी के बारे में बताएंगे।

यह भी पढ़ें- फिल्मों में ‘देशभक्ति’ के बाद अब ‘युद्ध’ लड़ेंगे अक्षय कुमार

सारागढ़ी का युद्ध भारतीय इतिहास की वो घटना है जिस पर समस्त सिक्ख संप्रदाय गर्व करता है और ये घटना हर हिंदुस्तानी के लिए भी गर्व की बात है। इसमें 21 सिक्ख सैनिकों ने सारागढ़ी पोस्ट को बचाने के लिए 12 हजार अफगानी सैनिकों से अंतिम सांस तक लड़ाई लड़ी ! सुनने में ऐसा लगता है कि ये सिर्फ कहानी है लेकिन ये कहानी एक हकीकत है। आइए आपको उन वीर सिक्खों की इस कहानी के बारे में बताते हैं।

ऐसे हुआ था सारागढ़ी पर हमला

सारागढ़ी युद्ध की कहानी शुरू होती है साल 1897 में। सारागढ़ी नामक स्थान पर ब्रिटिश इंडियन आर्मी की 36वीं सिख बटालियन के 21 सिख सिपाही तैनात थे। 12 सितंबर 1897 को अफगानों ने इस पोस्ट पर आक्रमण करने का मन बनाया। उन्हें लगा कि यहां पर सिर्फ 21 सैनिक मौजूद है जो हमारे 10 से 12 हजार सैनिकों के सामने नहीं टिक पाएंगे लेकिन ये उनकी भूल थी।

यह भी पढ़ें– 9 बार पाकिस्तान में घुसकर किया था हमला, आखिरी वक्त में कह गए आंख नम करने वाली बात

12 हजार सैनिकों पर भारी पड़े 21 सैनिक

जब युद्ध शुरू हुआ तो अफगान सैनिक अपने हथियारों के साथ सिख सैनिकों पर टूट पड़े। उन 21 सैनिकों ने अफगानी सैनिकों को ऐसा मज़ा चखाया कि उनके होश उड़ गए। सिख सैनिकों ने अपने साहस और पराक्रम से 600 से अधिक अफगान सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया। सैनिकों के पास जब तक बंदूकों में गोली थी तब तक वे बंदूकों से लड़े। जब ये खत्म हो गए तो वे तलवार लेकर मैदान में उतर आए।

हार कर भी जीत गए सिख सैनिक

सिखों ने इस युद्ध में अपनी जान की परवाह नहीं की और अपनी अंतिम सांस तक लड़े और लड़ते हुए वीरगति को प्राप्त हो गए। 21 सैनिकों का अफगानी सैनिकों से ये महायुद्ध इतिहास के पन्नों में स्वर्ण अक्षरों में दर्ज है। हालांकि इस युद्ध में सिख सैनिकों को अफगानी सैनिकों से हार का सामना करना पड़ा था और उन्होंने कब्जा भी कर लिया था।

यह भी पढ़ें– जानिए क्यों बजते हैं ’सरदारों के बारह’

लेकिन ऐन मौके पर ब्रिटिशों ने अपनी सेना भेजकर वहां से अफगानी सैनिकों को भगा दिया और कब्जा कर लिया। इस तरह सारागढ़ी भारतीय सैनिकों के हाथ में ही रहा। इस युद्ध के अंत में 21 सैनिक शहीद हुए थे और 600 अफगानी सैनिक मारे गए थे। इस युद्ध में अफगानी सेना को बहुत बड़ी हानि उठानी पड़ी थी।

ब्रिटिश भी मानते हैं 21 सैनिकों का लोहा

उन महान 21 सैनिकों को मरणोपरांत ब्रिटिश साम्राज्य की तरफ से बहादुरी का सर्वोच्च पुरस्कार ‘इंडियन ऑर्डर ऑफ मेरिट’ प्रदान किया गया था। यह पुरस्कार आज के परमवीर चक्र के बराबर है। 12 सितंबर को ‘सारागढ़ी दिवस’ घोषित किया गया जिसे आज भी ब्रिटेन और इंग्लैंड में हर साल मनाया जाता है। भारत में भी सिख रेजीमेंट इसे रेजीमेंटल बैटल ऑनर्स डे के रूप में मनाती है।

तो ये थी वो महान कहानी जिसे हम फिल्म के रूप में देखेंगे। ऐसी कहानियां टीवी पर या किताबों में कम ही देखने को मिली है। इस वीर कहानी का हमें बेसब्री से इंतज़ार रहेगा।

नोट- सारागढ़ी युद्ध में अफगानी सेना के कितने सैनिक थे। इस बात की कोई पुष्टि नहीं है हालांकि ये माना जाता है कि वो 10 हजार से 15 हजार के बीच रहे थे।

Courtesy- Shabdbeej.com

Sponsored





Follow Us

Yop Polls

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही जानकारी पर आपका क्या नज़रिया है?

Young Blogger

Dont miss

Loading…

Subscribe

यूथ से जुड़ी इंट्रेस्टिंग ख़बरें पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Subscribe

Categories